गाओं के चौराहे पर एक ‘बल्ब’ लटका हैं,
कोई दो साल चला होगा शायद,
सुना हैं खुद को बुझाकर
कई ‘तक़दीरें’ रौशन करी हैं उसने

Share If You Care!

Responses