छत पे बँधी उन रस्सियों ने भी
बहुत कुछ संभाल रखा है,
हर दिन ‘बंद घर’ से निकलती,
उस ‘खुली आबरू’ का पूरा ख्याल रखा है।।

Share If You Care!

Responses