Category Archives: हास्य

जब सितारे टूट जाते हैंं….

देश के प्रति अपनत्व की भावना में उत्पन्न हास|   भोर का समय थाl सारा गांव निद्रा के साये में थाl आसमान में चांद रात्रि के साथ रास रचाकर विदा लेने की तैयारी कर रहा थाl विदाई के दु:ख से उसकी चमक कुछ फीकी सी हो गयी थीl अभी जिस आसमान में कुछ समय पूर्व…