‘जले हाँथों’ से ‘जली रोटियाँ’ खाने में भी कोई स्वाद होता होगा,
‘पटाखों के कारखानों’ के अंदर यूँ ही भूखे पेट कोई काम नहीं करता।।

Share If You Care!

Responses