हथेली पे खाये उन डस्टरों की मार, अब जैसे सुकून देती है,
शुक्रिया, तूने मेरे हाथों की लकीरें उभार दी !!

 

Share If You Care!

Responses